शनिवार, 21 जून 2014

कब नींद भला ये टूटेगी ?


कब नींद भला ये टूटेगी?
सच को झूठ और झूठ को सच
जो बनाने लगा
वही इस जहान पे छाने लगा ।।
हमें गुलामी की लत है
ये भला कब छूटेगी
कब जनता आखिर जागेगी
कब नींद भला ये टूटेगी ।।
झूठ फल-फूल रहा है कितना
सच देखो कहराने लगा
सच को झूठ और झूठ को सच
जो बनाने लगा
वही इस जहान पे छाने लगा ।।

                           सुशील कुमार पटियाल (१९-०६-२०१४)

Thanks for loving me

Thanks for loving me

Bye bye dear

Bye bye dear