सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

सवाल

मेरे मन के मानचित्र पर
अनसुलझे है कई सवाल
क्यों काला कोई,
क्यों गोरा कोई,
क्यों मुखडा किसी का दिखता लाल
मेरे मन के मानचित्र पर
अनसुलझे है कई सवाल।।
कोई धनी तो कोई निर्धन क्यों है
क्यों उल्टी पडती वक्त की चाल
क्यों मांगता फिरता सडक पे कोई
भटके जैसे कोई चीज़ हो खोई
क्यों निर्धन है बदहाल
मेरे मन के मानचित्र पर
अनसुलझे है कई सवाल।।

दिल जलते हैं!

दीप कहीं, कहीं दिल जलते हैं
खुशियां कहीं, कहीं गम पलते हैं
कोई अकेला ही बढता है,
साथ किसी के दल चलते हैं
दीप कहीं, कहीं दिल जलते हैं।।
किसी किस्मत में है बस रोना
कोई बिना बजह ही हंसते है
दर्द का कहर न ढलता देखो
जीवन पल का, ज्यों वर्षों लगते हैं ।।

Thanks for loving me

Thanks for loving me

Bye bye dear

Bye bye dear